Actor Vinod Mehra dies of heart attack Heart attack symptoms and treatment brmp | महज 45 साल की उम्र में इस गंभीर बीमारी ने ले ली थी शानदार अभिनेता की जान, सबसे पहले सीने में होता है दर्द


बीमारी के मारे ये सितारे/भूपेंद्र राय: अपनी सहज अभिनय शैली, शालीन सी मुस्कान और बोलती आंखों की चमक से लाखों लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाने वाले अभिनेता विनोद मेहरा 70-80 के दशक के फेमस एक्टर रहे हैं. हालांकि महज 45 साल की उम्र में इस गंभीर बीमारी ने इस जादुई अभिनेता को बॉलीवुड से छीन लिया था. सौ से ज्यादा फिल्मों में अपने अभिनय का जलवा दिखा चुके विनोद का निधन 30 अक्टूबर 1990 को हार्ट अटैक के कारण हो गया था….

बॉलीवुड में 70-80 के दशक में चॉकलेटी हीरो के तौर पर मशहूर हुए अभिनेता विनोद मेहरा को गुजरते वक्त के साथ आज की पीढ़ी शायद भूल गई हो, लेकिन एक दौर था जब उनके पास फैन फॉलोइंग की कमी नहीं थी. लेकिन हार्ट अटैक के चलते बहुत कम समय में ही वो इस दुनिया से रुखसत हो गए. जिस हार्ट अटैक से अभिनेता विनोद मेहरा हमारे बीच नहीं हैं, वो बेहद खतरनाक होता है, इसके बारे में हम विस्तार से जानते हैं….

क्या है हार्ट अटैक (what is Heart attack) 
Johns Hopkins के मुताबिक, हार्ट अटैक का मेडिकल नाम मायोकार्डियल इंफार्क्शन (Myocardial Infarction) होता है. जिसमें दिल तक ऑक्सीजन और खून पहुंचाने वाली कोरोनरी आर्टरी में ब्लॉकेज आ जाती है. जिससे हार्ट मसल्स को पर्याप्त ऑक्सीजन और खून नहीं मिल पाता और वो डैमेज होने लगती है.

दिल का दौरा पड़ने के लक्षण (Symptoms of Heart Attack)

हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि हर मरीज में हार्ट अटैक के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं. जैसे-

  • सीने में दर्द तेज होना
  • पसीना आना
  • सांस फूलना
  • उल्टी, जी मिचलाना
  • चक्कर आना
  • अचानक थकान होना
  • सीने के बीच में कुछ मिनट तक तेज दर्द, भारीपन या सिकुड़न महसूस होना
  • दिल से कंधे, गर्दन, हाथ और जबड़े तक जाने वाला दर्द
  • धड़कन तेज या धीमी हो जाना

हार्ट अटैक के कारण – Causes of heart attack

हार्ट अटैक काफी खतरनाक होता है, जिसके कारण जान भी  जा सकती है. हाल ही में एक्टर पुनीत राजकुमार और सिद्धार्थ शुक्ला का निधन भी हार्ट अटैक के कारण हुआ था. Johns Hopkins के अनुसार, हार्ट अटैक आने के पीछे निम्नलिखित कारण हो सकते हैं. नीचे जानिए उनके बारे में….

  • टर्म जीवन बीमा योजना
  • खराब जीवनशैली
  • हाई ब्लड प्रेशर
  • हाई कोलेस्ट्रॉल
  • हार्ट डिजीज की फैमिली हिस्ट्री
  • डायबिटीज
  • धूम्रपान और शराब का सेवन
  • अत्यधिक तनाव में रहना

डॉक्टर से कब मदद लेनी है?
हार्ट अटैक के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं. आपके शरीर में हल्के से शारीरिक बदलाव नजर आने पर ही फौरन डॉक्टर के पास जाने की कोशिश करें. लक्षणों को देखकर इसे अन्य समस्या समझने की गलती ना करें, क्योंकि यह आपके लिए खतरनाक हो सकता है.

हार्ट अटैक से बचने के उपाय

  1. यदि आपको कोई हृदय रोग हो तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें.
  2. हेल्दी डाइट लें और वजन को कंट्रोल में रखें
  3. धूम्रपान न करें और रोज एक्सरसाइज जरूर करें
  4. ज्यादा तनाव न लें, अगर तनाव है तो उसे दूर करें
  5. यदि आपको मधुमेह हो तो उसके लिए सलाहित दवाइयों का उपयोग करें.
  6. अपने रक्त के शुगर के स्तर की जांच कराते रहें.

कैसे किया जाता है हार्ट अटैक का इलाज
हार्ट अटैक आने के बाद मरीज की एंजियोप्लास्टी की जाती है. यह एक ऐसी सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमें हृदय की मांसपेशियों तक ब्लड सप्लाई करने वाली रक्त वाहिकाओं को खोला जाता है. मेडिकल भाषा में इन रक्त वाहिकाओं को कोरोनरी आर्टरीज़ कहते हैं. डॉक्टर अक्सर दिल का दौरा या स्ट्रोक जैसी समस्याओं के बाद एंजियोप्लास्टी का सहारा लेते हैं. यह काफी अच्छी ट्रीटमेंट है.

इस गंभीर बीमारी से जंग हार गईं थीं मशहूर कोरियोग्राफर, माधुरी-श्रीदेवी जैसी दिग्गज अभिनेत्रियों ने माना था डांस गुरु

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.

WATCH LIVE TV





Source link

Leave a Comment