Astrophysicist Neil deGrasse Tyson reveals What will happen if Earth stops rotating for 1 second | क्या होगा अगर एक सेकंड के लिए घूमना बंद कर दे पृथ्वी? जानिए, कितनी बड़ी होगी तबाही


नई दिल्ली: क्या आपने कभी सोचा है कि अगर एक सेकंड के लिए पृथ्वी (Earth) घूमना बंद कर दे तो कितनी बड़ी तबाही होगी? पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है और अपने हर चक्कर को 23 घंटे 56 मिनट 4.1 सेकंड में पूरा करती है. इससे धरती के एक हिस्से पर दिन और दूसरे हिस्से पर रात होती है. अमेरिका के मशहूर एस्ट्रोफिजिसिस्ट Neil deGrasse Tyson ने इस पर अपनी राय दी है कि अगर पृथ्वी एक सेकंड के लिए घूमना बंद कर दे तो क्या होगा. 

पैदा हो सकती हैं भयानक स्थितियां 

अमेरिका के एस्ट्रोफिजिसिस्ट Neil deGrasse Tyson ने टीवी और रेडियो पर्सनैलिटी लैरी किंग से बात की और बताया कि अगर पृथ्वी एक सेकंड के लिए अपनी धुरी पर घूमना बंद कर दे, तो हालात भयावह होंगे.  टायसन ने बताया कि हम सभी पृथ्वी के साथ पूर्व की दिशा की तरफ घूम रहे हैं और अगर ये एक सेकंड के लिए रुक जाए तो भयानक स्थितियां पैदा हो सकती हैं.

टायसन ने बताया कि पृथ्वी 8000 मील प्रति घंटे की रफ्तार से अपनी धुरी पर घूम रही है और हम सब इसके साथ घूम रहे हैं. अगर एक ये एक सेकंड के लिए भी रुक जाए तो धरती पर मौजूद लोगों की जान जा सकती है. 

पहले से ज्यादा जानलेवा हो सकता है कोरोना? अब वैज्ञानिकों को सता रहा COVID-22 का डर

कार एक्सीडेंट जैसे होंगे हालात

लोग अपनी खिड़कियों से उछलते हुए नीचे गिर सकते हैं और ये देखने में काफी भयावह होगा. टायसन के मुताबिक, ये किसी कार एक्सीडेंट जैसा होगा. अगर बहुत तेज गति में कोई कार जा रही है और उसका एक्सीडेंट हो जाए तो कार में बैठे लोग अपनी सीटों से उछलकर दूर में गिर जाएंगे, जिन्होंने सीट बेल्ट नहीं लगाई होगी.

बता दें कि टायसन इससे पहले भी अपने ट्वीट्स को लेकर चर्चा में रहे हैं. इससे पहले उन्होंने अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस की संपत्ति को लेकर बयान दिया था. उन्होंने कहा कि था कि बेजोस की 200 बिलियन डॉलर्स संपत्ति से पृथ्वी का 180 बार चक्कर लगाया जा सकता है और इससे पृथ्वी और चांद पर 30 बार आया जाया जा सकता है. वह रिचर्ड ब्रैनसन की स्पेस यात्रा को लेकर भी ऐसे बयान दे चुके हैं.

दिन हो सकता है हद से ज्यादा लंबा 

हालांकि टायसन ने ये भी स्पष्ट किया कि अगर पृथ्वी पर मौजूद हर व्यक्ति ऐसी स्थिति में स्लो डाउन हो जाता है या अपनी गति को कम कर लेता है, तो किसी को नुकसान नहीं होगा. इस स्थिति में सिर्फ एक परिणाम सामने आएगा कि दिन हद से ज्यादा लंबा हो सकता है.

कौन हैं नील टायसन?

Neil deGrasse Tyson की बात करें तो जब वो 9 साल के थे, तब से ही उनकी खगोल विज्ञान में दिलचस्पी थी. वह अमेरिकन म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री गए थे, जिसके बाद उनकी इसमें रुचि बढ़ी. टायसन ने साल 1980 में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया था और साल 1983 में यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास से एस्ट्रोनॉमी में मास्टर्स डिग्री हासिल की थी.





Source link

Leave a Comment