Covishield vaccine dosage gap set to be cut says source । कोविशिल्ड वैक्सीन के दोनों डोज़ अंतराल कम हो सकता है: सूत्र


कोविशिल्ड वैक्सीन के दोनों डोज़ अंतराल कम हो सकता है: सूत्र- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV
कोविशिल्ड वैक्सीन के दोनों डोज़ अंतराल कम हो सकता है: सूत्र

नई दिल्ली। सूत्रों के मुताबिक, कोविशिल्ड वैक्सीन के दोनों डोज़ के बीच समय अंतराल कम किया जा सकता है। आने वाले दिनों में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय इस पर फ़ैसला ले सकता है। ऑफ़ Record बताया गया है कि कोविशिल्ड और कोवैक्सिन के अलावा देश में अब और भी वैक्सीन आ गई हैं और अब देश में पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन है। इसके मद्देनज़र ये फ़ैसला लिया जा सकता है। हांलाकि, कितना टाइम कम होगा, ये अभी तय नहीं हुआ है। दो डोज़ के बीच के गैप को कम करने से ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को जल्दी वैक्सीन लग पाएगी।

जहां कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा वहां केस बढ़ रहे- केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने गुरुवार को प्रेस वार्ता में बताया कि केरल एकमात्र राज्य है जहां कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या एक लाख से अधिक है, जबकि चार राज्यों में उपचार करा रहे मरीजों की संख्या दस हजार से एक लाख तक है। जहां कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा वहां केस बढ़ रहे हैं। 31 राज्यों में 10 हजार से कम कोरोना के एक्टिव केस हैं। 4 राज्यों में 10 हजार से 1 लाख एक्टिव केस हैं। देश में पिछले 24 घंटे में कोविड के 46,000 नए मामले सामने आए। इनमें से 58% मामले केरल से सामने आए हैं। बाकी राज्यों में अभी भी कोविड के मामलों में गिरावट देखी जा रही है। भारत में महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश ऐसे राज्य हैं जिसमें कोविड के सक्रिय मामले 10,000 से 1,00,000 के बीच हैं। देश में कुल सक्रिय मामलों का केरल में 51%, महाराष्ट्र में 16% और बाकी 3 राज्य(कर्नाटक, तमिलनाडू और आंध्र प्रदेश) का 4%-5% योगदान है।

‘टीकाकरण के बाद भी मास्क का उपयोग करना बहुत जरूरी है’

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि हमने अब तक 46.69 करोड़ लोगों को देशभर में कोविड वैक्सीन की पहली डोज़ दी है इनमें से 13.70 करोड़ लोगों को दूसरी डोज़ भी दी जा चुकी है। कुल 60 करोड़ से ज़्यादा डोज़ लगाई गई हैं। पिछले 24 घंटों में 80 लाख डोज़ दी हैं। आज अब तक 47 लाख डोज़ दी गई। कोविड-19 की दूसरी लहर अब भी जारी है; कई त्योहारों के कारण सितंबर और अक्टूबर महामारी प्रबंधन को लेकर महत्वपूर्ण हैं। कोविड-19 के टीके रोग में सुधार के लिए हैं न कि रोग को रोकने के लिए; इसलिए टीकाकरण के बाद भी मास्क का उपयोग करना बहुत जरूरी है। 





Source link

Leave a Comment