govinda suffered problem of weak bones and epilepsy chant gayatri mantra 24 lakh times to be healthy samp | बीमारी से ठीक होने के लिए Govinda ने 24 लाख बार जपा गायत्री मंत्र, ढंग से चल भी नहीं पाते थे


बीमारी के मारे, ये सितारे/सुरेंद्र अग्रवाल: एक दौर ऐसा था जब गोविंदा की फिल्म के सामने बड़े से बड़ा स्टार फिल्म रिलीज करने से डरता था. क्योंकि, गोविंदा की फिल्म चलने से कोई नहीं रोक सकता था. लेकिन, 13 साल की उम्र में एक बीमारी के कारण खुद गोविंदा नहीं चल पाते थे. दरअसल, एक बीमारी के कारण उनकी हड्डियां इतनी कमजोर हो गई थी, वह ढंग से चल भी नहीं पाते थे. हालांकि, उन्होंने इस बीमारी का नाम नहीं बताया. इसके साथ उन्हें मिर्गी का दौरा भी पड़ता था. यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से दी गई है.

ठीक होने के लिए 24 लाख बार जपा गायत्री मंत्र
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गोविंदा ने एक इंटरव्यू में बताया कि इलाज के साथ उनकी मां ने उन्हें 14 से 21 साल की उम्र तक 24 लाख बार गायत्री मंत्र का जाप करने की सलाह दी थी. अब ये भरोसा व विश्वास ही है कि गायत्री मंत्र का जाप पूरा होने के बाद वह बिल्कुल ठीक हो गए और उसके बाद आजतक कभी उतना गंभीर बीमार नहीं हुए.

‘बीमारी के मारे, ये सितारे’ सीरीज के सभी आर्टिकल पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

Weak Bones Problem: हड्डियों को कमजोर बनाने वाली बीमारियां
गोविंदा ने अपनी हड्डियों की बीमारी का नाम तो नहीं बताया, लेकिन वेबएमडी के मुताबिक निम्नलिखित मुख्य बीमारियों के कारण हड्डियां कमजोर होने लगती हैं.

1. ऑस्टियोपोरोसिस
इस समस्या के अंदर आपकी हड्डियों की डेंसिटी कम होने लगती है और वह गंभीर रूप से कमजोर हो जाती हैं. यह समस्या खासतौर से, कूल्हे, रीढ़ की हड्डी और कलाई की हड्डियों को कमजोर बनाती है. डाइट में बदलाव करके और एक्सरसाइज की मदद से बोन लॉस को कम किया जा सकता है.

2. ऑस्टियोपेट्रोसिस
यह समस्या ऑस्टियोपोरोसिस के ठीक उलट होती है. मतलब यह है कि इसमें हड्डियों की डेंसिटी बहुत ज्यादा हो जाती है और उनकी ताकत खोने लगती है. इससे हड्डियों के अंदर मौजूद बोन मैरो भी प्रभावित हो जाता है और शरीर संक्रमण से लड़ने में कमजोर हो जाता है.

3. टाइप 1 डायबिटीज
टाइप 1 डायबिटीज आमतौर पर बचपन से ही शुरू हो जाती है और इसी समय आपकी हड्डियां विकसित हो रही होती हैं. इस बीमारी में इंसुलिन की कमी के कारण हड्डियां कमजोर होने लगती हैं और विकसित नहीं हो पाती हैं. हालांकि, डॉक्टर्स इसके पीछे का कारण नहीं पता लगा पाए हैं.

ये भी पढ़ें: जानलेवा बीमारी के कारण बीच में ही छूट गई थी Johnny Lever के बेटे की पढ़ाई, शरीर में दिखने लगते हैं ऐसे लक्षण

4. ल्यूपस
ल्यूपस एक ऑटोइम्यून बीमारी है, जिसमें शरीर खुद की कोशिकाओं पर अटैक करने लगता है. इस बीमारी के इलाज में इस्तेमाल होने वाली कुछ दवाएं हड्डियों को कमजोर कर देती हैं.

5. हाइपरथायरॉइडिज्म
जब आपकी थायरॉइड ग्लैंड ज्यादा थायरॉइड हॉर्मोन का उत्पादन करने लगती है, तो हड्डियां तेजी से कमजोर होने लगती हैं. यह प्रक्रिया लंबे समय तक चलती है और फिर ऑस्टियोपोरोसिस का कारण बन सकती है.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.





Source link

Leave a Comment