Indian Researchers Discover Three Super-massive Black Holes | वैज्ञानिकों ने की 3 विशाल Black Holes की खोज, सामने आया ब्रह्मांड से जुड़ा ये रहस्य


नई दिल्ली: भारतीय रिसर्चर्स ने तीन अलग अलग आकाशगंगाओं से तीन विशाल ब्लैक होल्स की खोज की है. ये तीनों एक triple active galactic nucleus बनाने के लिए आपस में मिल (Merge) रहे हैं. ये नई गैलेक्सी के केंद्र में एक कॉम्पैक्ट सा क्षेत्र है जिसकी चमक सामान्य से कहीं ज्यादा है. 

ब्रह्मांड में होने वाली दुर्लभ घटना

वैज्ञानिकों के मुताबिक, ब्रह्मांड में होने वाली दुर्लभ घटना बताती है कि स्मॉल मर्जिंग ग्रुप्स ऐसे कई साथ मिलने वाले विशाल ब्लैक होल्स की पहचान के लिए एक आइडियल लैबोरटरी हैं और इनसे इस​ तरह की घटनाओं के बारे में पता लगाया जा सकता है.

दरअसल, इतने विशाल ब्लैक होल्स Supermassive Black Holes को डिटेक्ट करना मुश्किल होता है क्योंकि, ये किसी भी तरह की रोशनी नहीं छोड़ते. लेकिन अपने आसपास की चीजों से इंटरैक्शन से ये अपनी उपस्थिति जाहिर कर सकते हैं. 

भारतीय वैज्ञानिकों ने की खोज

 

जब धूल के कण और गैस Supermassive Black Hole में गिरते हैं तो इनका कुछ हिस्सा ब्लैक होल निगल जाता है. वहीं इनमें से कुछ एनर्जी के रूप में कन्वर्ट हो जाता है और इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन के रूप में निकलता है. इससे ब्लैक होल बहुत ज्यादा चमकदार हो जाता है.  इन्हें Active Galactic Nuclei (AGN) कहा जाता है और ये भारी मात्रा में आयोनाइज्ड कण और एनर्जी, Galaxy और इसके एनवॉयरमेंट में रिलीज करते हैं.

NASA के टेलीस्कोप ने दिखाई वो जगह जहां पैदा होते हैं सितारे, हैरान कर देगी तस्वीर

 

Indian Institute of Astrophysics के रिसर्चर्स की टीम जब एक जाने-पहचाने Interacting galaxy pair NGC7733 और NGC7734 के बारे में स्टडी कर रही थी. उन्होंने नोटिस किया कि NGC7734 के सेंटर से असामान्य एमिशन निकल रहे हैं. एक्सपर्ट्स को एक नई Small Galaxy का पता चला और इसे उन्होंने NGC7733N गैलेक्सी नाम दिया है. इस टीम में ज्योति यादव, मौसुमी दास और सुधांशु बर्वे जैसे भारतीय वैज्ञानिक शामिल हैं. 

UV और H-alpha इमेज का इस्तेमाल

ये स्टडी एक लेटर के रूप में जर्नल Astronomy and Astrophysics में प्रकाशित की गई है. इस स्टडी में Ultra-Violet Imaging Telescope (UVIT), Space Observatory ASTROSAT, Very Large Telescope (VLT) और साउथ अफ्रीका के Optical Telescope (IRSF) के डेटा और इमेज का इस्तेमाल किया गया. इन UV और H-alpha इमेजेज के ​जरिए सितारों के बनने के साथ तीसरी गैलेक्सी के होने का पता लगाया गया है.





Source link

Leave a Comment