Pakistani Jaish terrorists released by Taliban from Kabul prison arrive in Pakistan Occupied Kashmir PoK


अफगानिस्तान की जेलों में बंद पाकिस्तानी आतंकियों को तालिबान ने किया रिहा, पाकिस्तान का असली चेहरा आय- India TV Hindi
Image Source : INDIA TV
अफगानिस्तान की जेलों में बंद पाकिस्तानी आतंकियों को तालिबान ने किया रिहा, पाकिस्तान का असली चेहरा आया सामने

नई दिल्ली। पाकिस्तान की आतंकी साजिश का एक बार फिर पर्दाफाश हुआ है। पाकिस्तान हमेशा से ही आतंकी संगठनों के लिए सुरक्षित पनागगाह रहा है। इसका ताजा उदाहरण तालिबान द्वारा छोड़े गए जैश के आतंकियों को शरण देने को लेकर है। तालिबान ने अफगानिस्तान की जेलों में बंद पाकिस्तानी आतंकियों को रिहा कर दिया है। पाकिस्तान ने तालिबान द्वारा जेलों से छोड़े गए जैश के आतंकियों को शरण दी है। इससे साफ हो गया है कि पाकिस्तान आतंकियों का सबसे सुरक्षित ठिकानों में से एक है।  

कहा जा रहा है कि तालिबान ने अफगानिस्तान की जेलों में बंद जिन आतंकियों को छोड़ दिया है अब उनका इस्तेमाल पाकिस्तान भारत के खिलाफ जम्मू-कश्मीर के जरिए घुसपैठ कराने में कर सकता है। पाकिस्तान के कई इलाकों में तालिबान की जीत का जश्न मनाया जा रहा है। पाकिस्तान लगातार भारत के खिलाफ अप्रत्यक्ष रूप से चीन के साथ मिलकर परेशानियां खड़ी करने में लगा रहता है। 

बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल जेल से तालिबान द्वारा रिहा किए गए पाकिस्तानी जैश के आतंकवादी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के रावलकोट और पाकिस्तान के अन्य इलाकों में पहुंच चुके हैं। पाकिस्तान में जैश के आतंकी कैडर ने अफगानिस्तान की जेलों से छोड़े गए जैश के आतंकवादियों के स्वागत में जश्न की फायरिंग कर अपनी जेलों में उनका स्वागत किया है।

वकार की तस्वीरों और वीडियो में देखा जा सकता है कि एक जैश आतंकवादी जिसका काबुल जेल से तालिबान द्वारा जबरन रिहाई के बाद रावलाकोट में स्वागत किया गया था। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी (ISI) ने अफगानिस्तान की जेलों में बंद जैश आतंकवादियों को छोड़े जाने के बाद काबुल से इस्लामाबाद और उसके बाद रावलाकोट में आसानी से स्थानांतरित करने की सुविधा प्रदान की है।

पाकिस्तान की आतंकी साजिश का एक बार फिर पर्दाफाश हुआ है। पाकिस्तान लश्कर और जैश के आतंकी कैडर के लिए अफगानिस्तान को प्रशिक्षण मैदान के रूप में इस्तेमाल करने के लिए उत्सुक है। अफगानिस्तान में तालिबानी कब्जे के बाद से पूरी दुनिया में इसे लेकर चर्चा तेज हो गई है। गौरतलब है कि पाकिस्तान पर लंबे समय से आरोप लगते रहे हैं कि वो तालिबान की मदद करता रहा है और चरमपंथी संगठन को हथियार की सप्लाई करता है। 





Source link

Leave a Comment