Several killed as two explosions rock Uganda capital Kampala | युगांडा की राजधानी कम्पाला में ‘डबल ब्लास्ट’, 3 की मौत, दर्जनों घायल


Kampala, Kampala Blast, Kampala Twin Blasts, Uganda Blasts, Uganda Twin Blasts- India TV Hindi
Image Source : AP
युगांडा की राजधानी कंपाला में मंगलवार सुबह 2 धमाकेदार विस्फोट हुए।

Highlights

  • युगांडा की राजधानी कंपाला में मंगलवार सुबह 2 धमाकेदार विस्फोट हुए।
  • प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि संसद भवन के पास सड़क किनारे भी धमाका हुआ।
  • विस्फोटों में घायल हुए कम से कम 24 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

कंपाला: युगांडा की राजधानी कंपाला में मंगलवार सुबह 2 धमाकेदार विस्फोट हुए, जिसके चलते अफरा-तफरी मच गई और लोग इधर-उधर भागते दिखे। इन हमलों में अब तक 3 लोगों के मारे जाने और दर्जनों के घायल होने की खबर है। प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि इनमें से एक विस्फोट एक थाने के पास हुआ तथा दूसरा धमाका संसद भवन के पास सड़क किनारे हुआ। संसद के पास हुआ विस्फोट संभवत: उस इमारत को निशाना बनाकर किया गया था, जिसमें एक बीमा कंपनी का कार्यालय है। विस्फोट के चलते वहां खड़े वाहनों में आग लग गई।

पुलिस ने इस बारे में तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की

राष्ट्रीय प्रसारक UBC के अनुसार, कुछ सांसद पास के संसद भवन परिसर को खाली करते दिखे। स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता इमैनुएल ऐनेब्यूना ने ट्वीट करके कहा कि विस्फोटों में घायल हुए कम से कम 24 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जिनमें से 4 गंभीर रूप से घायल हैं। सूत्रों के मुताबिक, इस घटना में कम से कम 3 लोगों की जान गई है। प्रत्यक्षदर्शी की ओर से अपलोड किये गये वीडियो में पुलिस स्टेशन के पास विस्फोट स्थल से सफेद धुएं का गुबार दिखाई दे रहा है। पुलिस ने इस बारे में तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की है और यह स्पष्ट नहीं है कि विस्फोट बम से किए गए या किसी और तरीके से। 

कम्पाला में 23 अक्टूबर को भी हुआ था ब्लास्ट
युगांडा के अधिकारी हाल के सप्ताहों में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोटों के मद्देनजर लोगों से सतर्कता बरतने का आग्रह करते रहे हैं। कम्पाला में 23 अक्टूबर को एक रेस्तरां में हुए विस्फोट में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और कम से कम 7 घायल हो गए थे। पुलिस के अनुसार, उसके 2 दिन बाद एक यात्री बस में हुए विस्फोट में आत्मघाती हमलावर मारा गया था। मध्य अफ्रीका में इस्लामिक स्टेट समूह से संबद्ध ‘एलाइड डेमोक्रेटिक फोर्सेज’ ने रेस्तरां में हुए हमले की जिम्मेदारी ली थी।

राष्ट्रपति के शासन का विरोध करता है ग्रुप
एलाइड डेमोक्रेटिक फोर्सेज लंबे समय से राष्ट्रपति योवेरी मुसेवेनी के शासन का विरोध करता रहा है, जो चरमपंथी समूह अल-शबाब से संघीय सरकार की रक्षा के लिए सोमालिया में शांति सैनिकों को तैनात करने वाले पहले अफ्रीकी नेता हैं। सोमालिया में युगांडा द्वारा शांति सैनिकों की तैनाती के प्रतिशोध में, इस समूह ने 2010 में हमले किए थे, जिसमें कम से कम 70 लोग मारे गए थे, जो विश्व कप फुटबॉल मैच देखने के लिए कम्पाला में सार्वजनिक स्थलों पर इकट्ठे हुए थे, लेकिन एलाइड डेमोक्रेटिक फोर्सेस, अपनी स्थानीय जड़ों के साथ, मुसेवेनी के लिए अधिक सिरदर्द साबित हुई है।

90 के दशक की शुरुआत में हुई थी स्थापना
एलाइड डेमोक्रेटिक फोर्सेस की स्थापना 1990 के दशक की शुरुआत में युगांडा के मुसलमानों द्वारा की गई थी, जिन्होंने कहा था कि उन्हें मुसेवेनी की नीतियों से अलग-थलग कर दिया गया है। उस समय, विद्रोही समूह ने युगांडा के गांवों के साथ-साथ राजधानी में भी घातक आतंकवादी हमले किये, जिसमें 1998 का हमला भी शामिल था, जिसमें कांगो सीमा के पास एक सीमावर्ती शहर में 80 छात्रों का नरसंहार किया गया था।





Source link

Leave a Comment