Vidya Balan suffered Obsessive Compulsive Disorder know the symptoms causes and treatment brmp | Vidya Balan को हो गई थी ये बीमारी, घर में ये चीज देखकर हो जाती थीं आउट ऑफ कंट्रोल


भूपेंद्र राय/ Vidya Balan suffered Obsessive Compulsive Disorder: एक्ट्रेस विद्या बालन को चाहे आज भी उनकी हिट फिल्म ‘डर्टी पिक्चर’ के लिए याद किया जाता हो लेकिन आज से दो साल पहले तक उन्हें अपने आस पास की जगह को डर्टी देखना बिलकुल भी पसंद नहीं था. उनके घर में उन्हें हर चीज साफ सुथरी चाहिए होती थी, अगर ऐसा नहीं होता था तो वह परेशान हो जाती थीं और साफ सफाई को लेकर उनकी सनक शुरू हो जाती थीं. ये सब कुछ एक बीमारी की वजह से हो रहा था, जिसका नाम है  OCD यानी ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर. हालांकि अब विद्या बालन इस बीमारी से ठीक हो चुकी हैं. 

आपको बता दें कि ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर को खुद ट्रीट करना मुश्किल होता है, क्योंकि, यह ऐसी मानसिक बीमारी है, जो डर, भय और घबराहट की वजह बनती है. अगर आपको इसके लक्षण नजर आ रहे हैं तो परिवार या दोस्तों से इसके बारे में बात करें. इस खबर में हम आपके लिए ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर के लक्षण, कारण, बचाव के तरीके बता रहे हैं. 

क्या है ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (What is Obsessive Compulsive Disorder)
बेवएमडी के अनुसार, ओसीडी एक मानसिक बीमारी है. इस बीमारी में लोगों को बेकार की चिंता सताती रहती है. ये लोग हमेशा संशय में बने रहते हैं. उनके मन में किसी बात को लेकर डर व शंका का भाव रहता है. उन्हें किसी काम की धुन इस तरह सवार हो जाती है कि वह सनक बन जाती है. कुल मिलाकर ऐसे लोगों का दिमाग किसी एक ख्याल या काम पर अटक सा जाता है. यह कोई गंभीर बीमारी तो नहीं, लेकिन जरूरत से ज्‍यादा किसी चीज की सनक होने को ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर भी कहा जाता है.

1 से 3 प्रतिशत जनसंख्या OCD की शिकार

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो दुनियाभर की 1 से 3 प्रतिशत जनसंख्या OCD नाम की बीमारी से पीड़ित है, जिनमें एक बड़ी संख्या बच्चों की है. यह बीमारी डिप्रेशन और ऐंग्जाइटी से अलग है. इस बीमारी के लक्षण सिर्फ परफेक्शन हासिल करने से नहीं जुड़े, बल्कि OCD से पीड़ित मरीज के दिमाग में अक्सर अलग-अलग तरह के ख्याल आते रहते हैं, जो उन्हें परेशान करते हैं और इससे उनकी नींद का शेड्यूल भी बिगड़ जाता है. लिहाजा उन्हें कई और हेल्थ प्रॉब्लम्स होने लगती हैं. 

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD) के लक्षण (Symptoms of Obsessive Compulsive Disorder (OCD)

  1. मरीज को आमतौर पर सफाई और बार-बार हाथ धोने की सनक सवार रहती है.
  2. चीजों को बेवजह बार-बार जांचना, जैसे कि ताले, उपकरण और स्विच आदि.
  3. कुछ को निश्चित संख्या, रंग और अरेंजमेंट को लेकर अंधविश्वास हो सकता है.
  4. धर्म या नैतिक विचारों पर पागलपन की हद तक ध्यान देना.
  5. किसी चीज को भाग्यशाली या दुर्भाग्यशाली मानने का अंधविश्वास होना.
  6. कीटाणुओं-गंदगी के संपर्क में आने या दूसरों को दूषित कर देने का डर रहता है.
  7. घर में कोई बाहरी व्यक्ति घुस आया है, इस बात का डर रहना.
  8. परिवार या किसी करीबी की सुरक्षा को लेकर अधिक चिंतित रहना.

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर के कारण क्या है? (What is the cause of Obsessive Compulsive Disorder)

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर से पीड़ित होने पर क्या-क्या होता है?
इस बीमारी में व्यक्ति को किसी एक काम को करने की सनक सी सवार हो जाती है. वह बार-बार एक ही चीज करता है. खासकर रोगी को सफाई की धुन सवार हो जाती है. OCD से पीड़ित रोगी अगर कोई गंदी चीज छू ले तो वह तब तक हाथ धोते रहते हैं, जब तक उनका दिमाग उन्हें ऐसा करने के लिए मना न कर दे. ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर के लिए आनुवांशिकता, ब्रेन में सेरोटोनिन नामक न्‍यूरोट्रांसमीटर की कमी, इंफेक्‍शन, स्‍ट्रेस आदि चीजें जिम्‍मेदार होती हैं.

महिलाओं के लिए ज्यादा खतरा
बेवएमडी के अनुसार, आमतौर पर ओसीडी के रोगी की पहचान नहीं की जा सकती है. तनाव इस बीमारी के लक्षणों को बदतर बना देते हैं. यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा हो सकती है. इसके लक्षण अक्सर किशोर या युवा वयस्कों में दिखाई देते हैं. 

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर से बचाव (Avoiding Obsessive Compulsive Disorder)
बेवएमडी के अनुसार, इस डिसऑर्डर को आप शुरू होने से पहले नहीं रोक सकते. हालांकि जब आपको इसके लक्षण दिखें तो तुरंत संबंधित डॉक्टर से संपर्क करें और उनकी बताई दवाइयों का सेवन करें.

OCD का इलाज (OCD treatment)
ओसीडी से निपटने के लिए कई ऐसी दवाइयां हैं, जो जो दिमाग की कोशिकाओं में सेरोटोनिन की मात्रा बढ़ाती हैं. डॉक्टर कई बार इलाज के लिए इन दवाओं को लेने की सलाह देते हैं. कभी-कभी तनाव को दूर करने वाली दवाएं भी इनके साथ दी जाती हैं. इसके अलावा ओसीडी से निपटने के लिए बिहेवियर थेरेपी की मदद भी ली जाती है.

ये भी पढ़ें: Depression के कारण खुद को कुत्ते के साथ बंद कर लेते थे Kapil Sharma, शाहरुख ने दे डाली थी ये नसीहत

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.

WATCH LIVE TV





Source link

Leave a Comment