When Katrina Kaif has been suffering from depression know here Depression symptoms and treatment brmp | ब्रेकअप के बाद डिप्रेशन से इस तरह उबरी थीं Katrina Kaif, जानिए ये कितना खतरनाक है, यह लक्षण दिखें दिखें तो हो जाएं सावधान!


गर्दिश में सितारे/भूपेंद्र राय: बॉलीवुड की खूबसूरत अदाकारा कैटरीना कैफ (Katrina Kaif) और एक्‍टर विकी कौशल (Vicky Kaushal)इन द‍िनों अपने शादी की खबरों को लेकर चर्चा में हैं. कहा जा रहा है कि दिवाली के मौके पर दोनों का रोका हो गया है, लेकिन दोनों सितारों की तरफ से अभी तक कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है.

टाइगर जिंदा है, क्या आप जानते हैं कि धूम 3, एक था टाइगर, राजनीति और अजब प्रेम की गजब कहानी जैसी हिट फिल्मों में अपनी दमदार एक्टिंग का लोहा मनवा चुकीं कैटरीना की जिंदगी में एक वक्त ऐसा भी आया था, जब वो पूरी तरह टूट गई थीं, अकेली रहने लगी थीं और डिप्रेशन में चली गई थीं. 

एक्टर रणबीर कपूर से ब्रेकअप के बाद से कैटरीना ने डिप्रेशन में चले (Katrina in depression) जाने की बात कबूली थी, लेकिन क्या आप जानते हैं कि जिस डिप्रेशन से कटरीना कैफ अब पूरी तरह उबर चुकी हैं, वो स्थिति कितनी खतरनाक है? डिप्रेशन शब्द जिनता आसान नजर आता है, यह स्थिति उससे कहीं ज्यादा घातक हो सकती है. इस खबर में हम डिप्रेशन के बारे में आपको बता रहे हैं.

डिप्रेशन क्या है (what is depression)
विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक़ डिप्रेशन एक आम मानसिक बीमारी है. डिप्रेशन आमतौर पर मूड में होने वाले उतार-चढ़ाव और कम समय के लिए होने वाले भावनात्मक प्रतिक्रियाओं से अलग है. लगातार दुखी रहना और पहले की तरह चीजों में रुचि नहीं होना इसके लक्षण हैं.

मानसिक और शारीरिक रूप से प्रभावित करता है डिप्रेशन
डिप्रेशन एक मानसिक समस्या है, लेकिन यह मरीज को शारीरिक रूप से भी प्रभावित करती है, जैसे थकावट, दुबलापन या मोटापा, हार्ट डिसीज, सिर दर्द, अपचन इत्यादि. डिप्रेशन को गंभीर मेडिकल समस्या माना जाता है. यह कैंसर, असमय बुढ़ापा, दिल के रोग की वजह भी बन सकता है. 

डिप्रेशन में जाने पर क्या होता है?
जो लोग डिप्रेशन में चले जाते हैं, वह उदास नजर आते हैं. हर बात पर गुस्सा करने लगते हैं और उनमें हताशा की भावनाएं बनी रहती हैं. डिप्रेशन के दौरान पीड़ित को सभी जगह निराशा, तनाव, अशांति और अरुचि की मौजूदगी समझ आने लगती है. 

एंग्जायटी और डिप्रेशन में क्या अंतर है?
मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट विकास खन्ना के अनुसार “कुछ लोगों को कई चीज़ों से घबराहट होती है, किसी एक चीज़ पर उनका कंट्रोल नहीं रहता, ये एक मानसिक स्थिति है, जब आप खुद को ‘हेल्पलेस’ (बेबस) महसूस करते हैं, इसे एंग्जाइटी कहते हैं. लेकिन जब आप ‘होपलेस’ महसूस करने लगते हैं यानि कि आप अपने भविष्य से उम्मीद खो बैठते हैं, तो इस मनोस्थिति को डिप्रेशन कहते हैं. 

डिप्रेशन के सामान्य लक्षण (common symptoms of depression)

मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि हर इंसान में डिप्रेशन के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं. 

  1. जिन चीजों में पहले आनंद आता था, उनमें फिर नहीं आता.
  2. दिन भर और खासकर सुबह के समय उदासी.
  3.  हर दिन थकावट और कमजोरी महसूस करना.
  4. खुद को अयोग्य या दोषी मानना.
  5. एकाग्र रहने और कोई फैसले लेने में कठिनाई होना.
  6. लगभग हर रोज बहुत अधिक या बहुत कम सोना.
  7. सारी गतिविधियों में नीरसता आना.
  8. बार–बार मृत्यु या आत्महत्या के विचार आना.

डिप्रेशन के सामान्य कारण (common causes of depression)

  • जैनेटिक 
  • हार्मोनल बैलेंड डिस्टर्ब होना
  • आत्मसम्मान में कमी या खुद की आलोचना करना
  • मेंटल बीमारी का इतिहास होना 
  • कुछ खास दवाओं का सेवन 
  • तनावपूर्ण घटनाएं
  • किसी करीबी से  धोखा मिलना
  • आर्थिक समस्याएं
  • सामाजिक दूरी 

ये भी पढ़ें: गर्दिश में सितारे: Divorce के बाद Manisha Koirala को निकली थी ये जानलेवा बीमारी, तस्वीर में देख सकते हैं हालत

डिप्रेशन से बचने वाले उपाय (remedies for relief depression)

  1. फिजिकल एक्टिविटी बहुत बड़ा ट्रीटमेंट है.
  2. एक्सरसाइज 
  3. डांस करें
  4. अल्कोहल और ड्रग्स के सेवन से बचें
  5. ढेर सारी नींद लें
  6. हेल्दी डाइट लें
  7. निगेटिव लोगों से दूर रहें
  8. आनंद देने वाले कामों में हिस्सा लें

डिप्रेशन से कैसे उबरीं थीं कैटरीना कैफ
डिप्रेशन से उबरने के बाद कैटरीना ने बताया था कि जब वे डिप्रेशन में थीं तो उन्होंने किताबों को अपना साथी बनाया. वे अच्छी किताबें पढ़ कर प्रेशर से बाहर निकलीं. 

डिप्रेशन का इलाज हो सकता है? (Can depression be treated)
डॉक्टर विकास खन्ना कहते हैं कि डिप्रेशन सिर्फ बीमारी नहीं है और न ही दिमागी फितूर, यह एक ऐसी मानसिक हालत है, जिसमें पॉजिटिव सोचने और बेहतर रिजल्ट तक पहुंचने की इंसान की कपैसिटी कम हो जाती है. वह कहते हैं कि अगर आपको खुशी की परिभाषा नहीं पता तो आप कभी दुखी नहीं हो सकते. अगर वक्त पर इलाज और करीबियों का साथ डिप्रेशन से निपटने में अहम भूमिका निभाता है. इसके लिए आप एक्सपर्ट्स से बात करके हर संभव विकल्प के बारे में बात कर सकते हैं. यह माना जाता है कि सेरोटोनिन, डोपामाइन न्यूरोट्रांसमीटर अपर्याप्तता और असंतुलन अवसाद का कारण बनता है. मनोचिकित्सक अवसाद के इलाज के लिए SSRIs देते हैं. 

ये भी पढ़ें: सफेद Hair की Problem को हमेशा के लिए खत्म कर देंगे ये 3 उपाय, नेचुरल तरीके से बाल हो जाएंगे काले-घने और मजबूत





Source link

Leave a Comment